Connect with us

ट्रेंडिंग

Knowledge: आखिर क्यों ये नोटों से भरी अलमारी की फोटो इंटरनेट पर वायरल हो रही है?

आपको बता दें की इन दिनों सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर एक फोटो बहुत ही तेज़ी से वायरल हो रही है. जी हाँ यह फोटो एक अलमारी की है, जो की नोटों की गद्दियों भरी पड़ी हैं. इसी के साथ ही इस अलमारी को लेकर कुछ गंभीर आरोप भी लगाए गए है. एक यूज़र ने लिखा कि ये तस्वीर हैदराबाद की है. इसे नोटबंदी का असर बताते हुए लिखा कि कुल रकम करीब 142 करोड़ रुपये है. एक पैरोडी अकाउंट से ट्वीट किया गया कि ये फोटो हैदराबाद की एक फार्मा कंपनी पर पड़े IT छापे की है.

जानकारी के लिए बता दें की तस्वीर वायरल होने के बाद कई सवाल उठ रहे हैं. जैसे क्या ये तस्वीर और इसे लेकर कही जा रही बातें पैरोडी अकाउंट तक ही सीमित हैं या इनमें कुछ सच्चाई भी है? ये अलमारी कहां की है, किसकी है?

आइये पूरी बात को ध्यान से समझते हैं. एक फार्मा कंपनी है – हेटरो फार्मास्युटिकल ग्रुप. हैदराबाद में इसका मेन ऑफ़िस है. इनके दफ़्तर पर हाल ही में आयकर विभाग का छापा पड़ा था. आरोप है कि हेटरो फार्मा के ऑफिस से 500 करोड़ रुपये से अधिक का हिसाब नहीं दिया जा सका. बिज़नेस स्टैंडर्ड ने इस रकम को करीब 550 करोड़ रुपये बताया है.

इसी के साथ ये भी लिखा है कि यहां एक अलमारी से 142 करोड़ रुपये कैश बरामद हुआ. आयकर विभाग इसकी जांच कर रहा है. ये फोटो यहीं की बताई जा रही है. लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई है. जानकारी के लिए बताना चाहेंगे की अभी आयकर विभाग ने इस बारे में कुछ नहीं कहा है.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, हेटरो फार्मा की 50 लोकेशंस पर छापेमारी की गई है. ये वही कंपनी है, जो भारत में रेमडेसिविर इंजेक्शन बना रही थी. वहीं इंजेक्शन, जिसके लिएए कोविड-19 की दूसरी वेव में लूट-मार तक मच गई थी. बेहद सस्ता आने वाला ये इंजेक्शन उस वक्त 50 हज़ार रुपये और कहीं-कहीं तो इससे भी ज़्यादा में बिका था. अब इसी कंपनी पर आयकर के छापे में बेहिसाब आय और इतना ज़्यादा कैश मिलने पर तमाम सवाल उठ रहे हैं. रशियन कोविड-19 वैक्सीन स्पुतनिक-वी के भारत में उत्पादन का काम भी इसी कंपनी के पास है.

Credit – The Lallantop

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

Recent Posts