Connect with us

अन्य

पिता करते है 18 घंटे काम, तो वहीँ बेटी ने की 12 घंटे की पढ़ाई की और पास किया UPSC परीक्षा

नमस्कार दोस्तों, हम आपका हार्दिक अभिनन्दन करते है अपने इस पोस्ट में. हमेशा से यही जाता है कि ऐसा जरूरी नहीं होता कि आपका पिता जिस प्रोफेशन में हो, तो आप भी उसी प्रोफेशन में जाए. ना जाने कितनी बार कितने बच्चे अपने कठिन परिश्रम के साथ अपने सपनो को पूरा करते है. इस बात को सच साबित किया है अंजलि बिरला ने. बात दें, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की सब से छोटी बेटी हैं अंजलि बिरला. अंजलि ने अपने पिता के दिखाए हुए मार्गदर्शन के अनुस्वार घंटों पढ़ाई किया करती थी. और इसी सब के बाद सबसे कठिन परीक्षा मानी जाने वाली यूपीएससी के परीक्षा को पास कर लिया है. इन सब के साथ सबसे खास बात तो यह है कि अंजलि ने केवल अपने पहले प्रयास में ही यह सफलता प्राप्त की है. अंजलि की इस सफलता के कारण उन्हें देशभर से बधाईयां मिल रही है. अंजलि ने साथ में यह बताया है कि उनका चयन यूपीएससी की दूसरी लिस्ट के आधार पर हुआ है. अब उनका कहना है कि उन्हें जो भी जिम्मेदारी मिलेगी, उसे वह दिल से पूरा करेंगी.

प्रतिदिन 12 घंटे पढ़ती थी अंजलि बिरला

आपकी जानकारी के लिए बता दें, जब हमने अंजलि से बातचीत की तब उन्होंने हमें बताया कि वह यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी करने के लिए प्रतिदिन 12 घंटे की पढ़ाई किया करती थी. उन्होंने साथ में यह भी बताया कि इस परीक्षा के लिए उन्होंने आटर््स विषय चुन लिया था. जिसके अंदर उन्होंने पॉलिटिकल साइंस और इंटरनेशनल रिलेश्नस विषय का चयन किया था. वह आगे यह भी बताती है कि मेरे पिता ओम बिरला रोज़ाना18 घंटे काम किया करते हैं, और उनसे ही मुझे आईएएस बनने के लिए प्रेरणा मिली थी.

बड़ी बहन को दिया अपने सफलता का श्रेय

आपको बता दें, इस दुनिया के सब से कठिन माने जाने वाले परीक्षा यूपीएससी को अंजलि ने केवल अपने पहले प्रयास में ही पास कर लिया था. इस परीक्षा को पास करने के पीछे का श्रेय अपनी उन्होंने बड़ी बहन आकांक्षा को दिया है. अंजलि का यह कहना हैं कि उनकी बड़ी बहन ने ही उन्हें पढ़ाया, और समय के साथ साथ मोटिवेट भी किया. जब वह यूपीएससी की तैयारी कर रही थी तो इस दौरान उनकी बहन हर समय उनके साथ खड़ी रहती थी.

साइंस की जगह आर्ट्स विषय चुना

आपको बता दें, अंजलि ने अपने 10वीं के परीक्षा में बहुत अच्छे नंबर प्राप्त किये थे. परन्तु फिर भी उन्होंने साइंस की जगह आटर््स सब्जेक्ट का चयन किया. इस बात पर सभी लोगों को काफी हैरानी भी हुई थी. परन्तु जब उन्होंने कॉलेज में एडमिशन लिया तब उनका झुकाव यूपीएससी परीक्षा की ओर हुआ. इसके साथ ही यह भी जान ले कि अंजलि ने सोफिया स्कूल से आर्ट्स सब्जेक्ट द्वारा अपनी 12वीं की पढ़ाई पूरी की है. इसके बाद उन्होंने पॉल साइंस से ऑर्नस में स्नातक किया है. इतना ही नहीं इसके बाद उन्होंने दिल्ली के रामजस कॉलेज से अपनी बाकी की पढ़ाई पूरी की है. फिर इसके बाद वह दिल्ली में ही पिछले एक साल से यूपीएससी के परीक्षा की तैयारी कर रही थी.
महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में काम करने की रूचि

अंजलि ने साथ में यह भी बताया कि उन्हें हमेशा से महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में काम करने की रूचि है. परन्तु इसके बाद भी उन्हें यदि किसी भी विभाग में जिम्मेदारी मिलती है तो वह इसके लिए भी तैयार है.

क्या कहती हैं अंजलि की मां

बता दें, अंजलि की मां अमिता बिरला का यह कहना है कि उन्हें अपने बेटी की इस कामयाबी पर बेहद खुशी है. वह आगे यह भी कहती हैं कि अंजलि बचपन से ही पढ़ाई करने में बहुत तेज़ थी. उन्हें हमेशा से अपनी बेटी से उम्मीद थी थी कि वह अपना सपना जरूर पूरा करेगी और इसके साथ ही हमारा नाम रौशन करेगी.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

Recent Posts